अक्टूबर 06, 2016

जीसैट -18

भारत के नवीनतम संचार उपग्रह जीसैट -18 एरियन -5 VA-231 द्वारा अक्टूबर 06, 2016 को कोरू, फ्रेंच गयाना से इन्सैट / जीसैट प्रणाली में शामिल किया गया । लिफ्ट-ऑफ के समय 3404 किलो वजनी जीसैट- 18 में सामान्य सी-बैंड, अपर विस्तारित सी-बैंड और आवृत्ति स्पेक्ट्रम के लिए केयू बैंड  सेवा प्रदान करने के लिए 48 संचार ट्रांसपोंडर हैं। जीसैट -18 उपग्रह में केयू बैंड बीकन स्थित है जोकि जमीन एंटेना की दिशा को उपग्रह की ओर बेहतर स्थिति प्रदान करने में सहायता प्रदान करता है।

जीसैट 18 को सी-बैंड, विस्तारित सी-बैंड और केयू-बैंड में परिचालन उपग्रहों की सेवाओं की निरंतरता प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है। जीसैट -18 को एरियन -5 VA-231 प्रक्षेपण यान से भू-तुल्यकालिक स्थानांतरण कक्षा (जीटीओ) में स्थापित किया गया । उसके जीटीओ में अंतक्षेपण के बाद, इसरो के मुख्य नियंत्रण सुविधा (एमसीएफ) हासन ने जीसैट -18 का नियंत्रण ले लिया और उपग्रह के द्रव अपभू मोटर (एलएएम) का उपयोग कर, प्रारंभिक कक्षा परासन कौशल किया तथा वृत्ताकार भू-स्थिर कक्षा में स्थापित किया।

कक्षा में जीसैट -18 का संचालन जीवन काल 15 साल के लिए डिज़ाइन किया गया है।

लांच छवियों के लिए, जाएँ एरियनस्पेस…

Launch Mass: 
3404 kg
Mission Life: 
About 15 years
Power: 
6474 W from Solar arrays, Two 144 Ah Li-Ion batteries
Ariane-5 VA-231
Type of Satellite: 
Communication
Manufacturer: 
ISRO
Owner: 
ISRO
Application: 
Communication
Orbit Type: 
GSO