अक्टूबर 17, 2007

पीएसएलवी-सी5

पीएसएलवी-सी5 इसरो के ध्रुवीय उपग्रह प्रमोचक रॉकेट, पीएसएलवी की आठवीं उड़ान है। 1993 में अपनी पहली उड़ान के बाद से, पीएसएलवी की नीतभार क्षमता में 600 कि.ग्रा. से अधिक द्वारा प्रगामी रूप से सुधार किया गया है। पीएसएलवी-सी5 मिशन में, यान द्वारा 1360 कि.ग्रा. भार वाले एक भारतीय सुदूर संवेदन उपग्रह, आईआरएस-पी6 (रिसोर्ससैट-1) का 817 कि.मी. उच्च ध्रुवीय सूर्य तुल्यकाली कक्षा (एसएसओ) में प्रमोचन किया जाएगा।

अब तक छह क्रमिक सफल प्रमोचनों के साथ, एसएसओ और साथ ही, भू-तुल्यकाली अंतरण कक्षा (जीटीओ) में उपग्रहों को प्रमोचित करने के लिए पीएसएलवी इसरो के वर्कहॉर्स प्रमोचन यान के रूप में उभरा है। पीएसएलवी को एंट्रिक्स कॉर्पोरेशन लिमिटेड के माध्यम से अन्य अंतरिक्ष एजेंसियों / देशों के उपग्रहों के प्रमोचन के लिए भी प्रदान किया जाता है।

पीएसएलवी-सी5 चरणों की एक झलक
 
चरण-1
चरण-2
चरण-3
चरण-4
नामावली
कोर (पीएस1) + छह स्टैप-ऑन (पीएसओएम) 6 सं.
पीएस 2
पीएस 3
पीएस 4
नोदक
ठोस एचटीपीबी आधारित
द्रव यूएच25+एन2 ओ 4
ठोस एचटीपीबी आधारित
द्वि-नोदक एमएमएच + एमओएन
भार (टन)
138.0 + 6 x 9.0
41.5
7.6
2.5
अधिकतम प्रणोद (केएन)
4762.0
6 x 645
800
246
7.3 x 2
ज्वलन समय (से)
106.4
44
147
109
515
चरण व्यास (मी.)
2.8
1.0
2.8
2.0
2.8
चरण ऊँचाई (मी.)

20
10

12.8
3.6
2.9