द्रव नोदन प्रणाली केंद्र (एलपीएससी)

इसरो के प्रक्षेपण यान और अंतरिक्ष यान कार्यक्रमों के लिए द्रव नोदन क्षेत्र में द्रवनोदन प्रणाली केंद्र (एलपीएससी) एक उत्कृष्ट केंद्र है। इसके क्रियाकलापों का विस्तार वलियमला,  तिरूवनंतपुरम तथा बेंगलूरु तक फैला हुआ है।

एलपीएससी, वलियमला

एलपीएससी, वलियमला

इसरो, अंतरिक्ष विभाग

वलियमला पो.ऑ

तिरुवनंतपुरम - 695 547

निदेशक:डॉ.वी.नारायणन

ईमेल:director@lpsc.gov.in

 

एलपीएससी का  मुख्यालय वलियमला में स्थित है। इस केंद्र पर पृथ्वी संग्रहणीय व  क्रायोजेनिक नोदन पर अनुसंधान एवं विकास के अनुसंधान और विकास की जिम्मेदारी है। यह केन्द्र प्रक्षेपण यान अन्तरिक्ष यानों के वास्ते इंजन, चरणों, तत्संबंधित नियंत्रण प्रणालियों व घटकों को उपलब्ध कराता है।

इसकी प्रमुख उपलब्धियों में निम्न शामिल हैं:

  • पीएसएलवी के लिए द्रव रॉकेट चरण और नियंत्रण विद्युत संयंत्र
  • जीएसएलवी के लिए द्रव चरण
  • जियोसैट और आईआरएस अंतरिक्षयानों के लिए नोदन प्रणाली
  • एसपीई के लिए नोदन प्रणाली
  • ट्रांसड्यूसर विकास और उत्पादन
  • एलपीएससी द्वारा प्रशासन पैकेज का कोवा सॉफ्टवेयर उपलब्ध कराया गया जो इस समय इसरो के सभी केंद्रों में इस्तेमाल किया जा रहा है।

एलपीएससी, बेंगलूरु

एलपीएससी, बेंगलूरु

इसरो, अंतरिक्ष विभाग

80 फीट रोड

एचएएल द्वितीय चरण, एच.पी.ओ

बेंगलूरु - 560 008

 

बंगलौर में स्थित एलपीएससी केंद्र में जियोसैट और आईआरएस कार्यक्रमों के लिए उपग्रह नोदन प्रणाली के समाकलन का उत्तरदायित्व है। यह केंद्र मोनोप्रोपेलेंट नोदन प्रणाली, ट्रांसड्यूसरों व अन्तरिक्ष यानों  के नोदक टैंक संबंधित प्रणाली अभियांत्रिकी के डिजाइन व विकास के लिए भी जिम्मेदार है। यह केन्द्र विद्युत नोदन प्रणाली, अंतरिक्षयान प्रणोदक प्रमापन  प्रणाली, उन्नत ट्रांसड्यूसर आदि के विकास की दिशा में अनुसंधान और विकास तथा टीडीपी गतिविधियों में भी शामिल है

इसकी प्रमुख उपलब्धियों में निम्न शामिल हैं:

  • इन्‍सैट, जीसैट, आईआरएस श्रेणी उपग्रहों के लिए नोदन प्रणाली का समाकलन
  • प्रक्षेपण के लिए प्रणोदक सेवा तथा कक्षा संचालन की नोदन प्रणाली में सहायता
  • प्रक्षेपण यान, अन्तरिक्ष यान की नोदन प्रणाली तथा अन्य सुविधाओं की आवश्यतानुसार ट्रांसड्यूसरों का विकास व उत्पादन
  • आईआरएस श्रेणी के उपग्रहों में प्रयुक्त मोनोप्रोपेलेंट थ्रस्टर का विकास व निर्माण